Tuesday, December 27, 2016

"After hearing the story of Secret Superstar, I wanted to cry"- Aamir Khan
After DangalAamir Khan's next film is going to be Secret Superstar, which is directed by Advait Chandan.  Aamir just launched the film’s teaser. When quizzed about his role, he said, “My character is very interesting. Daal mein jo tadka hota hai na? Mera kirdaar is film mein tadka hai. Yeh bahut alag role hai. Aisa role maine aaj tak nai kiya hai."

 

The story of the film revolves around a mother and her daughter, who wants to become a singer. Aamir will be an integral part of the story.

 

Aamir said that he wasn't sure about doing the film. “This character is very different from me. So I asked Advait to do my screen test. When I was sure that I could do it, only then did I decide to do the character," said the superstar. He further added, "After hearing the story, I wanted to cry. So I went into the washroom… I asked Advait when he wanted to start the film."

 

The film releases on August 4, 2017
A perfect occasion to thank my stars...
-Mukesh Chhabra

Firstly, I would like to start with this year marking a success for the field of casting. The process is glorified by films like - Neerja, Pink and Udta Punjab. Personally, I think that the casting of these particular films were extremely effective. Kudos to my colleagues and fellow casting directors for putting together the cast of these films. I am glad that the casting department is identified in an important way. Many film school students joined our little MCCC family as interns to learn the process of casting and wanting to be casting directors in the future; making me understand that now this is a mainstream profession. This would not have been possible without the love and support of the lovely filmmakers, studios and producers

The directors trust us and put their faith in us with their films. For us every film is special. Would thank every director who has given us an opportunity to cast and bring some beautiful stories to life. The gratitude that I feel towards - Imtiaz Ali, Rajkumar Hirani, Vishal Bharadwaj, Vikas Bahl, Vikramaditya Motwane, Sujoy Ghosh, Rakesh Mehra, Abhishek Kapoor, Nitesh Tiwary, Nishikant Kamath, Nikhil Advani, Karan Johar, Dinesh Vijan, Soojit Sircar, Shakun Batra, Kabir Khan, Sriram Raghavan, Vinnil Mathew, Jackie Chan, and everyone who has given us a chance to cast. And special mention to Anurag Kashyap without whom I wouldn't have been who I am. Thank you.

Feels like life has come a full circle, from a rank outsider who got the opportunity to be an assistant casting director for Aamir Khan's 'Rang De Basanti,' to now being an integral part of this amazing film or as I like to call it; a movement called 'Dangal,' brought to life by director Nitesh Tiwary. I think this is a perfect occasion to thank my stars - not just the ones on celluloid, but also those celestial ones too, who have brought my journey to this new landmark. The moment I was on board the 'Dangal' team as a casting director, I knew this would be something really special, something I will cherish for a lifetime.

It has been a long journey, and I have had the privilege of working with one of the most celebrated, talented and creative artists in the Hindi film industry. With all the overwhelming appreciation and love coming my way for our work in 'Dangal,' I am feeling like a young guy off the block yet again - the same me, when I came to this city of dreams with stars in my eyes, and passion in my pocket to make my mark here. Along the way, I have been helped and encouraged by many kind souls in the film business, because of who I have reached this far. I would like to specially mention Mandar Gosavi who proved to be the backbone of the MCCC team working towards this film. Words will never be enough to convey the gratitude that I feel today towards the mentions in the reviews, the media, the makers and my team.

Also I want to thank my team. The films would never look the same without them. Again, I think it's my stars and theirs that brings us together to combine our energies and bring life to our characters. When I think about the process of putting together a cast, I wonder how would a Dangal look without Mandar, Chillar Party without Aakash, Hasee Toh Phasee without Vaibhav, Masaan without Shreedhar, Bajrangi Bhaijaan without Shoumie Mukherjee, Bhootnath without Dabas, Kahaani 2 without Indu, Gangs of Wasseypur without Pawan, PK without Rakesh, Highway without Balwinder, KaiPoChe without Aakash Bhojwani. And awaiting films like Rangoon which wouldn't have been possible without Anuja and Begum Jaan which wouldn't have been possible without Mahesh. They formed a foundation for MCCC.

I would also thank all the lovely actors for coming in and auditioning with us and never letting us down. Thank you for putting your trust in us and believing with us that no role is big or small and treating your characters with respect.

I will remember every little gesture, big and small, by everyone reading this - you all are my stars, and I just can't thank you all enough. Please keep the love and support coming, as it means the world to us. Thank you once again.

Monday, December 26, 2016

“I don’t get a kick when you call me a celestial body’ or a ‘star’- Sushant Singh Rajput
-Raghuvendra Singh

The success of MS Dhoni: The Untold Story is unprecedented. Has it changed things for you?
Nothing has changed from my point of view. I meet the same people, eat the same food and I live in the same place. As far as work is concerned all the films that I’m doing right now are the films I had signed before Dhoni. Where the industry is concerned, I don’t know what they think of me. I can only tell you what’s happening around in my environment.
A compliment that came your way for Dhoni?
Sakshi (wife of cricketer Mahendra Singh Dhoni) said that it’s difficult to understand Dhoni but the fact I could do so in such a limited span of time is remarkable.
As an actor have you hit the big league with Dhoni?
I don’t understand what big league is! Am I getting the money I want? Fuck, yes. I’m investing that money in forming a team and making small-budget films and short films for the digital platform. (Laughs) Yeah there’s a certain amount of money that I need for myself every month. The rest I can invest. This is the biggest league one can be in. If you want 100 crores and you earn only five crores you’re doomed. But if you want five crores and you make five plus crores, you are in a big league. Guess, I’m in the biggest league that I could be in right now.
What actually made you turn to production?
You may equate money with psychological security. But after a point when you have enough for your needs, it loses its relevance. You don’t know what to do with it. So if money flows from irrelevance to relevance, it’s a good idea. You can take the risk believing that it will come back. Even if it doesn’t, I don’t care because I have the ‘relevant’ money. When I was growing up, we were a big family. I wanted study in a university but could not afford to because we didn’t have that much money. I thought it was unfair. But once you have it, money becomes relevant only when it resonates. I will have a setup that can make some money. But even if it doesn’t, I don’t care a f**k. So I’m just screening out the best film I can find and funding those people who don’t have the means to make it. It has nothing to do with ‘Oh I want to be the torchbearer of good films’. Make shitty films I don’t care a fuck, I swear. I enjoy reading scripts. That is excitement for me. I’m just a conversion machine that exchanges money to excitement.
Despite success is it difficult being accepted as ‘a star’?
I don’t care about stardom. Whether they consider me a star or not a star it doesn’t change anything. Right from 2013, I’ve been offered films that I wanted to do. It’s not that I’m choosing the best from the options offered. So, I don’t believe they are having trouble accepting me. I don’t get a kick when you call me a ‘celestial body’ or a ‘star’. It doesn’t do anything for me.
Apparently, you weren’t invited for any of the big Diwali bashes in the industry. Were you hurt?
Someone asked me on Twitter which party I’d be attending out of the three happening. (Laughs) I replied that I wouldn’t be attending any as I wasn’t invited for any of them. It was not that I was craving to attend them. If I wanted to light firecrackers and I could do it by only attending parties then it would have been a big thing. I watched Pink on TV instead. I enjoyed it. I had chicken biryani, jalebi-rabdi and a glass of wine. Can you think of anything else better than this? I don’t have any complaints.
Why didn’t you throw a success party after Dhoni as is the norm?
Because I didn’t do it after Byomkesh Bakshi. When I read the script of Byomkesh, I found it brilliant. When I read the Dhoni script, it was again brilliant. When I started working on Byomkesh I did my best. For Dhoni, I did my best too. The parameters in between are not in my hand. So Byomkesh did a certain business, while Dhoni did a different one. If I don’t give a party after Byomkesh and if I give a success party post Dhoni, it means I’m celebrating those parameters that I can never control. It doesn’t make sense to me.
Continue…
If an actor believes that he’s the sole reason for a film doing well at the box-office then he’s actually a good actor because he’s simply acting. (Laughs) He doesn’t know he’s is liar. Of course, he can claim that this was his best. But he can’t claim that his existence in the film is directly in proportion to the box-office numbers.
Are you in a happy space in your life and career right now?
In childhood the conditioning was ‘one day I will become happy and for that I need to work today’. But with experience I realised that what comes closest to happiness is excitement. It can be playing a video game or it can be talking to you at this point of time. If I’m excited it means I’m closest to the sense of happiness. Am I excited today? Yes, I’m damn excited. You can take away each and everything I have but you cannot take the excitement within me. Give me films and I’ll be excited. If there are no films, I’ll do plays and be equally excited. You cannot take away that excitement from me.
Okay there a sense of security now?
My tweet the other day was something to the effect – the fear of not being successful is less than the fear of losing it after being successful. So success does not give you security. It can only make you more insecure if you keep thinking about the future. Because you now want to hold on to things and you are not hundred percent sure why you got them? You can manufacture reasons but you are not sure. If you’re a struggler you’ve got nothing to lose in that sense. Right now, I have four films and I wonder what if the first one of those doesn’t do well. Then the other three producers will run away. So security doesn’t come with success. Rather obsession with the future causes insecurity. Thankfully, I’m not obsessed.
Apparently, ex-girlfriend Ankita (Lokhande) called you after watching Dhoni and you both still share a cordial relationship. Comment.
Four years back I made my debut when a story in a leading newspaper said that I had slept with a guy to get that film. I still haven’t reverted back on that. That backlog remains. There were many stories after that as well – like the allegation that I was ‘slapped’. By the time I come to commenting on this report, it will take two-three years. Firstly, I will have to name with whom I slept. I need to ‘find’ that guy first. Story bhi banayi to male ke saath. (Laughs) Had it been an actress, I could have flaunted it before my friends. These people should consider writing scripts because such spicy inputs make for good stories.
Are you enjoying your single status?
I always enjoy whatever shit I have. Whatever state I am in is because I’m enjoying that. If I lose something or if I gain something it’s because I want to remain excited in life.
Dinesh Vijan’s Raabta is your next release. Are you excited?
We’re done shooting that film. I enjoyed the experience. When I read the script I liked it. When I was shooting for it, I loved it. It’s similar to the feeling when after starving, you enjoy a good meal and then you start burping. Full on satisfaction!
Your onscreen and off-screen chemistry with co-star Kriti Sanon has kept the rumour mills busy…
Of course, our pair needs to work otherwise the film won’t work. We will see that on that particular Friday. Questions like why it didn’t do well only happen on a Saturday. Yeah, it was a requirement that my chemistry with Kriti be so good that we’re able to sell an idea that normally people don’t believe in. We did our best. Time only will tell.
 There’s a buzz about you doing Omung Kumar Five and Anurag Kashyap’s Nishanchi?
In the past, there were films that I claimed I was doing and they never got made or somebody else did those films. So until it’s final, you can’t say anything. It doesn’t make sense.

“2016 was a hatke year for me.” - Arjun Kapoor

Arjun Kapoor looks back to 2016 and sees it as a year of achievement and fulfillment...
-Raghuvendra Singh
Arjun Kapoor made a lot of difference in 2016 by choosing unique and different paths and making important decisions. He began it on a positive note with making his television debut as the host of Khatron Ke Khiladi. Then his film Ki & Ka with Kareena Kapoor Khan won audience’s attention and earned good money at the box-office. It was not an easy film to do but the actor made a brave choice and it became the first of its kind film. Talking about the past year with Filmfare, Arjun Kapoor says, “It was really good. Khatron Ke Khiladi was starting point for me. For me it was a big decision to bring the change because I never believe playing by the rules. So I wanted to break the rules and change the rules in my own way. I thought this was a nice way of me being able to do something unique as a young actor and to connect with a lot of people. Thankfully, the result was very good. People were happy, the channel was happy. That was a great start of the year followed by of course, Ki & Ka which again was something different. And it worked.” He adds, “Before the release people thought it was such an off idea as Indians don’t necessarily accept a man sitting at home, running a home that kind of thought. I was happy that it got accepted.

On his way forward, the young star says, “I have completed Half Girlfriend. It was a fantastic experience to shoot with Mohit Suri with whom I always wanted to work. I have never done a pan-India passionate love story. It was exciting play a character from Bihar.”


And finally this year Arjun got an opportunity to work with his chachu, Anil Kapoor. He says, “I always wanted to work with Anil chachu and to do it with a comedy film, which was again unexplored by me. I have never done a proper out and out family entertainer. We always end up doing films that are more multiplex films. I feel Anees Bazmi’s Mubarakan is one of those films that’s all India friendly again.”



Arjun sums up his enthralling year in a short and sweet way. “So I think 2016 was a year of me doing genuinely making different decisions and seeing results. It was hatke year for me. It all worked out well for me this year,” smiles Arjun.

Wednesday, May 28, 2014

मैंने कभी ट्रेंड फॉलो नहीं किया: सनी देओल

घायल रिटर्न्स को खुद डायरेक्ट करने का फैसला आपने क्यों किया? पहले इसे अश्विनी चौधरी  निर्देशित करने वाले थे.
हां, एक-दो डायरेक्टर से बात चल रही थी, लेकिन इवेंचुअली, मुझे ये पिक्चर बनानी थी, बीकॉज दिस इज सम कैरेक्टर व्हिच आई ऑलवेज वॉन्टेड टू डू. देन आई डिसाइडेड टू डू मायसेल्फ. और काफी टाइम से मैं डायरेक्शन भी करना चाहता था. मुझे ये कैरेक्टर बहुत पसंद है, तो मैंने सोचा कि क्यों न इसी से शुरू करूं. फिलहाल, मैंने अपने सभी प्रोजेक्ट्स आगे कर दिया हैं. यही मेरी प्राथमिकता है.

दिल्लगी और घायल रिटर्न्स के बीच काफी लंबा वक्त गुजर गया. इस दौरान आपने डायरेक्शन को मिस किया?
ऐसे तो कुछ मिस-विस की बात नहीं होती है. लेकिन सबसे ज्यादा मजा एक्टिंग में ही आता है. डायरेक्शन में एक अलग संतुष्टि होती है, क्योंकि आप जो कहना चाहते हैं, वह कह सकते हैं. फिल्म में जो कुछ भी आप बताओगे, वह सब आपके दिमाग से ही निकला हुआ है. आपने हां की होगी. वह क्रिएटिव सैटिस्फैक्शन अलग ही होता है. डेफिनेटली, पूरा वक्त चला जाता है. मेरा बहुत टाइम जा रहा है घायल रिटर्न्स में, लेकिन अगर टाइम नहीं लगेगा, तो अच्छी चीज बनेगी नहीं.

घायल रिटर्न्स में आप एक्ट भी कर रहे हैं. एक साथ दो जिम्मेदारियों का निबाह करना मुश्किल नहीं होगा?
मैं पहले दिल्लगी में एक्ट और डायरेक्ट कर चुका हूं. मेरे लिए यह कोई नई चीज नहीं है. एव्रीथिंच्च् यू डू इन द लाइफ इज ए चैलेंज. और चैलेंज तो वह लोगों के लिए हो जाता है, लेकिन आप तो उसे कर रहे होते हैं, क्योंकि आप करना चाहते हो. इसमें पहला या दूसरा आना है, उसकी रेस तो नहीं है. जब आप एक्ट और डायरेक्ट करते हैं, तो अलग बात होती है, लेकिन जैसे कि मैंने बताया कि मैं पहले भी यह काम कर चुका हूं. तो उसकी ओर इतना गौर नहीं करता हूं कि ये कैसे करूंगा और वो कैसे करूंगा.

बतौर एक्टर आप जो प्रोजेक्ट्स चुन रहे हैं, वह सब आपकी इमेज और दर्शकों की पसंद के हिसाब से हैं, लेकिन क्या वजह है कि वह बॉक्स-ऑफिस पर नहीं चल रहे हैं?
जी अगर मुझे पता होता कि किस चीज पर कैसा रिस्पॉन्स मिलेगा, तो मैं हर चीज सही ही करता ना (मुस्कुराते हैं). उसके बारे में कुछ कह नहीं सकते. कोई चीज चलती है और वह इतनी बकवास होती है कि फिर हम उसके बारे में भी कुछ कह नहीं सकते. तो चलना-ना चलना इज नॉट इन आवर हैंड. जबसे इंडस्ट्री है, तबसे हम लोग यही बातें कर रहे हैं. लेकिन इसका कोई पक्का जवाब नहीं मिला है. सब कुछ स्पेक्युलेशन पर चल रहा है. आज किसी को बोल दो कि यह ठीक है, पता चलता है कि कल वही ठीक नहीं होता. उस वक्त कोई ऐसी चीज ठीक होगी, जिसके बारे में आपने कभी सोचा भी नहीं था. उस वक्त फिर सब कहते हैं कि हां, मुझे पता था. आई थिंक इट्स ऑल मैटर ऑफ पर्सनल चॉइस. हर चीज का अपना एक वक्त होता है और हर चीज का अपना लाइक और डिस्लाइक्स होते हैं. चलना-न चलना बॉक्स ऑफिस पर, इतने साल तक तो मेरे लिए कभी मायने नहीं रखा. बेशक यह बहुत महत्वपूर्ण है, तभी आपको प्रोजेक्ट्स कर पाते हैं. इतना तो मुझे यकीन है कि जहां पर भी हम जाते हैं, लोग हमें बहुत प्यार करते हैं. दैट इज बिकॉज ऑफ वर्क और तो हमने कुछ किया नहीं है.

आप ट्रेंड को फॉलो करने में बिलीव करते हैं?
ट्रेंड क्या है? आज कोई चलेगा, तो वह ट्रेंड बन जाएगा. सब वही करने लगते हैं. कल कुछ और चलता है, तो वह ट्रेंड बन जाता है. वो चीजें मैंने कभी फॉलो नहीं की. हां, एक-दो प्रोजेक्ट्स होंगे, जिन्हें मैंने किया है, क्योंकि लोगों ने कहा कि इस जॉनर की पिक्चर चलेगी, तो मैंने कर ली. मैंने जब भी सफलता पाई है, इट हैज ऑलवेज बीन सब्जेक्ट, विद फिल्म्स, जो उस जमाने के नहीं थे और उस वक्त वैसी फिल्में नहीं चलती थीं, उनका ट्रेंड नहीं था. सो इट इज नॉट सेटिंग ट्रेंड ऑर डूइंग एनिथिंग,  बेसिकली डूइंग व्हाट यू एंजॉय डूइंग. आपको अपने काम में मजा आ रहा है, तो फिर वही आपकी सेटिस्फैक्शन है.

टीवी पर कॉमेडी शोज आप देखते हैं? क्या लोग आपके सामने भी आपकी मिमिक्री करते हैं?
जब कभी-कभार मैं इन शोज पर जाता हूं, तो देख लेता हूं. वैसे नहीं देखता हूं. हां, मेरे सामने भी लोग मेरी मिमिक्री करते हैं और बताते हैं कि वो कितना अच्छा कर लेते हैं. तो जब मैं उनको बोलते हुए सुनता हूं, तो सोचता हूं कि क्या वाकई में मैं ऐसा हूं या नहीं हूं (हंसते हैं). मैं खुद से सवाल करने लग जाता हूं. ऑबवियसली मैं उसे एंजॉय करता हूं. पहली बार जब देखा, तब अच्छा नहीं लगता था, क्योंकि कोई नहीं चाहता कि उसकी कोई मिमिक्री करे. लेकिन बाद में इट बिकम्स योर पार्ट ऑफ लाइफ. आपको दिखता भी है कि वह इसे करते हुए एंजॉय करता है, इसलिए कर रहा है. अगर वह इसे करना एंजॉय नहीं करता, तो क्यों करता? मैंने कभी पिन पॉइंट किया नहीं कि कौन मेरी मिमक्री अच्छी करता है.

आपको यह आपत्तिजनक लगता है?
देखिए, हर आदमी जो भी अपने प्रोफेशन में है, जो भी वह करता है, उसकी वजह होती है. और इसमें भी टैलेंट होता है. ऐसे नहीं होता यह. मेरे अंदर मिमक्री का टैलेंट नहीं है, लेकिन मैं अपनी कहानी के अंदर ओरिजिनैलिटी लाने में लगा रहता हूं.

सरदारों पर सबसे ज्यादा जोक बनाए जाते हैं. उसको आप कैसे देखते हैं?
वी आर एक्टर्स बैसिकली, इसलिए इन चीजों पर मैं गौर नहीं करता. लेकिन इतना कहूंगा कि कोई भी धर्म हो, कौम हो, कहीं की भी हो, उस पर कोई चीज पर्सनल नहीं कहनी चाहिए. क्योंकि हर्ट करती है. उसके अलावा, हम अपना मजाक उड़ाते रहते हैं, तो उस चीज की कोई फिक्र नहीं है. उसकी परवाह नहीं है. क्योंकि उससे ना कोई आदमी बनता है और ना ही बिगड़ता है.

नए डायरेक्टर्स में किसका काम आपको अच्छा लगता है?
अच्छे डायरेक्टर्स हैं. मुझे नाम याद नहीं रहते. मैंने उड़ान देखी थी विक्रमादित्य मोटवानी की. वह मुझे अच्छी लगी थी. कहानी मुझे बहुत अच्छी लगी थी... सुजॉय घोष. इस ढंग के डायरेक्टर्स अच्छे लगते हैं, जिन्होंने कहानी को समझा हो और आएम श्योर उसको काफी वक्त दिया होगा, तभी ऐसी कहानियां बनती हैं.

इस तरह का काम देखकर आपके अंदर के निर्देशक को चुनौती महसूस होती है?
देखिए, जो फॉर्मूला फिल्म्स बना सकता है, वह वही बना सकता है. उसके लिए भी एक काबिलियत चाहिए होती है. उसका अपना बिलीफ होता है, जिसे आप सब लाइक करते हैं. इट इज एंटरटेनमेंट. कुछ फिल्में ऐसी होती हैं, जिसमें कैरेक्टर में डेप्थ होती है. जिसे आप देखना एंजॉय करते हैं. आप अपनी या दुनिया में जो देख रहे होते हैं, उसकी एक झलक मिलती है. ये नहीं है कि वो बेहतर हैं और ये बेहतर नहीं हैं. हर चीज में आदमी अपनी कैपसिटी के हिसाब से चलता है. बस यही है कि जब एक आदमी जो कर पाता है, वह उसे करता है, तो लगता है कि वह बहुत आसान है. दूसरा आदमी भी उस ढंग की फिल्में बनाने लग जाता है. वह गलत चीज है. अगर कोई चीज चलती है, तो सब वही बनाने लगते हैं. वह गलत है. आपको वह करना चाहिए, जो आपको अच्छा लगता है और जो आपका बिलीफ है. नॉट बिकॉज वह आपको लगता है कि सक्सेज होगा. 

नए कलाकारों में किसका काम आपको अच्छा लग रहा है?
सब अभी यंग हैं, अभी काम कर रहे हैं, उनको अभी मैच्योर होना है, दे हैव लॉट टू लर्न एंड ये आ जाते हैं, तो एक टेस्ट शुरू हो जाता है कि आप हर साल किस ढंग से आप अपने आपको आगे लेकर जाओगे, क्या क्या करोगे, तो कुछ कह नहीं सकता. मैंने किसी का काम ज्यादा देखा नहीं है. मैं फिल्में ज्यादा देखता नहीं हूं. लेकिन डेफिनेटिली आई हैव सीन चिंटूज सन रणबीर्स फिल्म्स. एक फिल्म देखी थी, वह अच्छी लगी थी. बाकी एक्टर्स की झलक देख लेता हूं कभी टीवी पर या कभी यू ट्यूब पर. अच्छे हैं सब. उन्हें देखकर लगता है कि जब मैं यंग था, तो मुझमें भी ऐसा ही कॉन्फिडेंस था. बट डेफिनेटिली दे ऑल आर मेच्योरिंग अप. गिव देम सम कपल ऑफ ईयर्स...

नए अभिनेताओं में से किस पर आपका डायलॉग ढाई किलो का हाथ फिट होगा?
देखिए, जब मुझे ये डायलॉग दिया गया था, तो मुझे भी नहीं पता था कि ये मुझ पर फिट होगा या नहीं. उस वक्त भी सब एक्टरों की पहचान थी, जब मैं था तब. एक एक्टर को वही करना चाहिए, जो उनकी पर्सनैलिटी कहती है. जरूरी नहीं है कि जिस ढंग से मैं डायलॉग बोलता हूं, वही एक तरीका है. दैट्स नॉट द राइट वे. ऑबवियसली, वह मुझे सूट करता है, तो पब्लिक को वह बात सही लगती है. मजा क्या है कि अगर आप भी वही डायलॉग बोलो, जो दूसरा कोई बोलता है. क्यों एंजॉय करेगी पब्किल? अनलेस एंड अनटिल आएम ए मिमक्री आर्टिस्ट (हाहाहा).

धरम जी और आपके बीच किस तरह का संबंध रहा है? आजकल पापा और बेटे के बीच दोस्त का रिश्ता होता है
देखिए, अगर आप गिने-चुने परिवारों की बात कर रहे हैं, जहां इस ढंग के रिश्ते होते हैं. पूरा देश तो ऐसा नहीं है. जहां भी हम जाते हैं, देखते हैं कि लोग हमारी तरह ही हैं. कुछ अलग चीज नहीं है उनमें. जहां उन्हें लगता है कि ये बाप की इज्जत नहीं कर रहा है, तो उन्हें अजीब सा लगता है. उन्हें लगता है कि यह हमारे जैसे ही हैं.

अपने बेटे करण के साथ आपने दोस्त का रिश्ता बनाया है?
देखिए, कोई रिश्ता रखता नहीं है. ये रिश्ते अपने आप डेवलप होते हैं. कुदरती बन जाते हैं. कोई जबरदस्ती नहीं करता है कि बेटे के संग ऐसा रिश्ता रखें. हमारी एक फैमिली है, जो सालों से एक ढंग से जी रही है. और हम सब अपने रहन-सहन से खुश हैं. दैट्स व्हाट इट इज. इसमें कोई साइंटफिक चीज नहीं है.

सुना है कि आपके घर के दरवाजे पंजाब से आने वाले हर इंसान के लिए खुले रहते हैं?
ऐसा नहीं है. बेसिकली, वी आर वेरी ओपन हार्टेड पीपुल. अगर किसी को जरूरत होती है और हम कुछ मदद कर सकते हैं, तो हम आगे बढक़र करते हैं. और खाने-पीने से तो किसी को क्या इंकार करना. किसी को भी इंकार नहीं करना चाहिए. आप पंजाब में किसी के घर चले जाओ, वह आपको खिलाएंगे-पिलाएंगे. यह नॉर्मल है. इसको हम लोग क्यों नॉर्मल नहीं समझते, मुझे समझ में नहीं आता. सबको पता है कि हम किस ढंग के हैं. 

आज सभी स्टार्स ट्विटर पर हैं, लेकिन आप क्यों नहीं हैं?
मैं वहां क्या बोलूंगा कि अभी मैंने खाना खाया है, अब मैं उठा हूं और अब वहां जा रहा हूं (हंसते हैं). मैं अपना काम छोडक़र क्या यह सब करने में लगा रहूं. सफाई देता रहूं कि मैं गलत नहीं हूं, अगर कोई कुछ छाप दे तो. अगर आपको लगता है कि मैं गलत हूं, तो ठीक है. आप अच्छे हो, 120 करोड़ लोगों का आपके पास है डाटा? व्हाई वी आर वेस्टिंग आवर टाइम इन ऑल दिस. आपको जानें लोग तो आपके काम से जानें, आपके व्यवहार से जानें, जरूरी नहीं है कि आपको उसे एक झंडा बनाके पूरे देश में आप उसे लेकर चलें. वी होंट बिलीव इन ऑल दीज थिंगस. वी आर एक्टर्स, वी बीकम्स स्टार्स बीकॉज पिक्चर चल जाती है. पर बेसिकली, वी आर एक्टर्स.

आपके बेटे करण की कैसी तैयारी चल रही है?
जब आप तय करते हो कि आपको इस फील्ड में जाना है, तो आप उस हिसाब से तैयारी करते हो. मैंने अपने हिसाब से तैयारी की थी. करण को क्या करना है, क्या बनना है, वह अपनी तैयारी कर रहा है. ये नहीं है कि वह बॉडी बिल्डिंग कर रहा है, वह डासिंग सीख रहा है. हां, एज एन एक्टर, यू हैव टू बी फ्लेक्सिब इन एव्री थिंग. आप जितनी अधिक चीजें जान लोगे, अच्छा है. पता नहीं कब उसका इस्तेमाल आप कर सकोगे. नॉलेज एक एक्टर की एैसेट्स होती है.

कब तक घोषणा करेंगे कि करण किस फिल्म से डेब्यू करेंगे?
मैंने तय किया है कि मैं तब तक किसी चीज के बारे में बात नहीं करूंगा, जब तक वह चीज शुरू नहीं हो जाएगी. क्योंकि फिर बातें ही बातें रह जाती हैं और फिर लोग पूछना शुरू कर देते हैं कि आपने ये कहा था, उसका क्या हुआ. एनर्जी उसके ऊपर वेस्ट होती है. हां यार, मुझसे गलती हो गई, सॉरी यार. उस वक्त मुझे लगा था कि मैं वो करूंगा, तो कह दिया. यह मैंने समय के साथ सीखा है कि चुप रहो. उतना ही बोलो, जितना आप कर रहे हो.

एक्टिंग फ्रंट पर क्या है?
दो-तीन प्रोजेक्ट्स हैं. लेकिन उनके बारे में अभी बात नहीं करना चाहता, क्योंकि फिर लोग कहेंगे कि वह पुश हो गई, वह रिलीज नहीं हो रही. लोगों को तो मसाला चाहिए. उसके बिना किसी को मजा नहीं आता. मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता. मैं तो काम कर रहा हूं. लेकिन जिस आदमी ने इतने पैसे लगाए हैं, उसका सत्यानाश क्यों कर रहे हैं. तो उस हिसाब से सोचना चाहिए. मुझ पर हार्म करना है, तो सीधा कीजिए. क्यों किसी को डैमेज करना, आई डोंट थिंक इट्स राइट. क्योंकि मेरा तो पैसा नहीं लगा ना. जिसका भी लगा, उसका क्यों नुकसान करना, आपको क्या हक है. आपके बारे में कोई ऐसा कुछ कहे कि आपके बिजनेस को ठेंस लगे, तो आई थिंक दैट्स बीइंग क्रिमिनली रॉन्ग. अगर हमें फर्क पडऩा होता, तो अभी तक हम यहां नहीं होते. अगर मैं कोई पिक्चर प्रोड्यूस करूं, उसमें कोई प्रॉब्लम हो, तो हर चीज में प्रॉब्लम होती है. किसी की लाइफ एकदम स्मूद नहीं है. लेकिन उसी को निपट कर आप आगे बढ़ते हैं, वही लाइफ है. क्यों शोर मचाकर उसे आप निगेटिव-पॉजिटिव-निगेटिव करोगे, तो फाइनेंशियली नुकसान पहुंचेगा प्रोजेक्ट को. उन्हें लगेगा कि सनी की पिक्चर के बारे में ऐसा बोल रहे हैं, तो मैं उसे नहीं लेता हूं, दिक्कत होगी. पैसे की कोई वैल्यू नहीं है, इसका मतलब. इन चीजों को खयाल रखना चाहिए.
- रघुवेंद्र सिंह 



Monday, April 28, 2014

मेरी ख्वाहिश पूरी हो गई- कार्तिक आर्यन

कार्तिक आर्यन से रघुवेन्द्र सिंह यह जानने का प्रयास कर रहे हैं कि शोमैन सुभाष घई का हीरो बनने के बाद एक कलाकार के जीवन में क्या परिवर्तन आता है
प्यार का पंचनामा और आकाशवाणी के बाद कार्तिक आर्यन ने एक लंबी छलांग मारी. वह सीधे शोमैन सुभाष घई की नजर के तारे बन गए. आकाशवाणी का ट्रेलर देखने के बाद सुभाष घई ने तय कर लिया कि उनकी फिल्म कांची का बिंदा कोई और नहीं, केवल कार्तिक ही बनेंगे. कार्तिक जैसे एक नवोदित अभिनेता के लिए यह हर्ष का विषय है. सुभाष घई एक महान फिल्मकार हैं. उनके नायकों की एक शानदार परंपरा रही है. दिलीप कुमार, राजकुमार, अनिल कपूर, शाहरुख खान, ऋतिक रोशन, सलमान खान... मुझे खुशी इस बात की है कि इस गौरवशाली लिस्ट में अब मेरा नाम भी शामिल हो गया है. मैं उनकी फिल्में देखकर बड़ा हुआ हूं. हर कलाकार का सपना होता है कि वह यश चोपड़ा और सुभाष घई के साथ करे. मेरी सुभाष जी के साथ काम करने की ख्वाहिश पूरी हो गई. करियर के आरंभ में ही कांची जैसी एक महिला प्रधान फिल्म चुनना अपने आपमें साहस की बात है. इस फैसले के बारे में कार्तिक कहते हैं, जब सुभाष जी ने मुझसे कहा कि फिल्म का नाम कांची है, तो मेरे मन में सवाल उठा कि इसका टाइटल कांचा क्यों नहीं है (हंसते हैं). उन्होंने मुझे समझाया कि कांची के किरदार को आपका किरदार मजबूत बनाता है. अगर मैं आपके किरदार को स्ट्रॉन्ग नहीं बनाऊंगा, तो फिल्म कमजोर बन जाएगी. वह बात मेरे दिमाग में बैठ गई. मेरा मानना है कि किसी फिल्म में छोटा और स्ट्रॉन्ग रोल करना हमेशा किसी फिल्म में लंबा और बेअसरदार रोल करने से बेहतर होता है.
कार्तिक के लिए कांची एक रोमांचक अनुभव रहा. इस फिल्म ने उन्हें इंडस्ट्री के उन साहसिक फिल्मकारों के साथ काम करने के लिए तैयार कर दिया, जो बिना स्क्रिप्ट के सेट पर काम करने में विश्वास करते हैं. बकौल कार्तिक, सुभाष जी की फिल्म की स्क्रिप्ट नहीं होती. वह स्पॉनटेनिटी पर यकीन करते हैं. कई बार वह सेट पर मेरे सामने डायलॉग लिखते थे और मुझसे कहते थे कि चलो, इसे बोल दो. इस प्रक्रिया में मुझे शुरू में दिक्कत हुई, लेकिन मैंने एक कलाकार होने के नाते इसे चुनौती की तरह लिया. सुना है कि बहुत सारे फिल्ममेकर बिना स्क्रिप्ट के काम करते हैं. सुभाष जी ने मुझे उस माहौल में काम करने के लिए अभी से तैयार कर दिया है.
इस उपलब्धि और हर्षोल्लास के बीच कार्तिक को अपने भविष्य की फिक्र है. दरअसल, हर फिल्म से एक कलाकार का करियर दांव पर लगा होता है और जब एक कलाकार गैर फिल्मी पृष्ठभूमि से आता है, तो उसे हर कदम फूंक-फूंककर रखना पड़ता है. कांची कार्तिक के करियर को क्या मोड़ देगी, इसके बारे में फिलहाल वह सोचना भी नहीं चाहते. कांची का नसीब जो भी हो... एक्टर के तौर पर मैं धीरे-धीरे आगे बढ़ रहा हूं. मैं खुश हूं. मैं इक्कीस साल का था, जब मैंने प्यार का पंचनामा शूट कर दी थी. मैं अभी बहुत यंग हूं. इस हिसाब से मेरे पास बहुत टाइम है. हम सबको यह लगता है कि किसी बड़े फिल्मकार की फिल्म का हीरो बनने के बाद एक अभिनेता का जीवन बदल जाता है, मगर हकीकत कुछ और होती है. कार्तिक इन दिनों एक ओर कांची का प्रचार कर रहे हैं, तो दूसरी ओर अगली फिल्म चुनने की कश्मकश में हैं. हर रोज वक्त निकालकर वह लोगों से मिलते हैं और तलाशते हैं कि अगला कदम क्या उठाया जाए. ताज्जुब की बात है कि चॉकलेटी चेहरा होने के बावजूद उन्हें अब तक यशराज फिल्म्स और धर्मा प्रोडक्शंस से फोन नहीं आया. हालांकि उनकी पहली ही फिल्म प्यार का पंचनामा बेहद चर्चित हुई थी. मुझे इसकी वजह पता नहीं. मैं यशराज और धर्मा के हीरो के तौर पर पहचाना जाना चाहता हूं, लेकिन शायद अब तक इन लोगों की मुझ पर नजर नहीं पड़ी है. मैं उस पल का इंतजार कर रहा हूं, जब इन प्रोडक्शन हाउस से मुझे बुलावा आएगा.
कार्तिक ग्वालियर (मध्य प्रदेश) के एक मध्यमवर्गीय परिवार से हैं. उनकी मम्मी (माला तिवारी) और पापा (मुनीश तिवारी) पेशे से डॉक्टर हैं. उनकी इच्छा थी कि कार्तिक भी डॉक्टर बनें, लेकिन कार्तिक के अपने कुछ सपने थे. इन सपनों को पूरा करने के लिए कार्तिक पुरजोर कोशिश कर रहे हैं. मुंबई की महंगी और मुश्किल भरी जिंदगी का सामना वह अकेले डटकर कर रहे हैं. यहां जीवन जीना बहुत मुश्किल है. मैं अपना खर्च खुद चला रहा हूं. हम सब जानते हैं कि एक न्यूकमर को इंडस्ट्री में कितना मेहनताना मिलता है. जैसे-जैसे आप बड़े एक्टर बनते हैं, आपकी कमाई बढ़ती है, लेकिन आपका खर्च भी दोगुना होता जाता है. एक एक्टर का अच्छा दिखना बहुत जरूरी होता है. उसे अच्छी जगह रहना पड़ता है. यह सब मेंटेन करना कभी-कभी मुश्किल हो जाता है.
इंडस्ट्री इन दिनों पूरी तरह प्रोफेशनल हो चली है. मैनेजर और पब्लिसिस्ट एक एक्टर के प्रोफेशन का अभिन्न हिस्सा बन चुके हैं. यह एक एक्टर के करियर को बनाने और संवारने में आजकल महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. लेकिन इनका चुनाव करना अपने आपमें एक बड़ी चुनौती है. खासकर जब आपका मार्गदर्शन करने के लिए कोई न हो. कार्तिक इन चुनौतियों से अकेले जूझ रहे हैं. कभी-कभी उन्हें लगता है कि काश, इस इंडस्ट्री में उनकी जान-पहचान का कोई अनुभवी व्यक्ति होता, तो शायद उनकी राह आसान बन जाती. आप फिल्म इंडस्ट्री के बाहर से आते हैं, तो इस समस्या से आपको जूझना पड़ता है. मुझे कभी-कभी समझ में नहीं आता है कि मैं जो फैसला ले रहा हूं, वह सही साबित होगा या नहीं. मुझे गाइड करने के लिए इस इंडस्ट्री में कोई नहीं है.
कार्तिक भाग्यशाली रहे कि फिल्म इंडस्ट्री में कदम रखते ही निर्माता कुमार मंगत की कंपनी ने उनके साथ तीन फिल्म का अनुबंध साइन कर लिया. इस साल के अंत तक वह कुमार मंगत की तीसरी फिल्म की शूटिंग शुरू करेंगे. इसकी औपचारिक घोषणा जल्द होगी. कार्तिक ने फैसला किया है कि अब वह विज्ञापन फिल्में भी करेंगे. हाल में, उन्होंने एक कमर्शियल की शूटिंग भी की है. कार्तिक कहते हैं, मैंने सोच लिया है कि नई-नई संभावनाएं तलाश करूंगा. खुद को किसी दायरे में सीमित नहीं रखूंगा. मगर एक्टिंग हमेशा मेरी प्राथमिकता रहेगी. मेरी कोशिश रहती है कि मैं एक्टिंग हमेशा करता रहूं. जब मैं फिल्म नहीं करता हूं, तो एक ट्यूटर ढूंढ़ लेता हूं, जो मुझे कुछ नया सिखाए. मैं जिम छोड़ सकता हूं, डांस करना छोड़ सकता हूं, लेकिन एक्टिंग कभी नहीं. इस वक्त आपके सामने भी मैं एक्टिंग ही कर रहा हूं (हंसते हैं). 


इनके साथ काम करने का इच्छुक हूं...
अनुराग कश्यप
इम्तियाज अली
विकास बहल

Friday, March 21, 2014

अंकिता के साथ जिंदगी बीतना चाहता हूं- सुशांत सिंह राजपूत

सुशांत सिंह राजपूत के जीवन में टर्निंग पॉइंट रहा. काय पो चे और शुद्ध देसी रोमांस की कामयाबी ने उन्हें एक हॉट फिल्म स्टार बना दिया. रघुवेन्द्र सिंह ने की उनसे एक खास भेंट
सुशांत सिंह राजपूत के आस-पास की दुनिया तेजी से बदली है. इस साल के आरंभ तक उनकी पहचान एक टीवी एक्टर की थी, लेकिन अब वह हिंदी सिनेमा की सबसे प्रतिष्ठित और लोकप्रिय फिल्म निर्माण कंपनी यशराज के हीरो बन चुके हैं. शुद्ध देसी रोमांस के बाद वह अपनी अगली दोनों फिल्में ब्योमकेष बख्शी और पानी इसी बैनर के साथ कर रहे हैं. उन पर आरोप है कि आदित्य चोपड़ा का साथ पाने के बाद उन्होंने अपने पहले निर्देशक अभिषेक कपूर (काय पो चे) से दोस्ती खत्म कर ली. डेट की समस्या बताकर वह उनकी फिल्म फितूर से अलग हो गए. 
हमारी मुलाकात सुशांत सिंह राजपूत के साथ यशराज के दफ्तर में हुई. काय पो चे और शुद्ध देसी रोमांस की कामयाबी को वह जज्ब कर चुके हैं. वैसे तो इस हॉट स्टार के दिलो-दिमाग को केवल उनकी गर्लफ्रेंड अंकिता लोखंडे ही बखूबी समझती हैं. औरों के सामने वह बड़ी मुश्किल से अपना हाल-ए-दिल बयां करते हैं. लेकिन हम इस मुश्किल काम को करने की कोशिश कर रहे हैं. आप खुद जज कीजिए की इस बातचीत में आप सुशांत को कितना बेहतर जान पाए...

माना जाता है कि यशराज का हीरो बनने के बाद बाजार और दर्शकों का नजरिया आपके प्रति बदल जाता है. क्या वाकई ऐसा होता है?
जब मैं हीरो नहीं भी बनना चाहता था, जब मैं फिल्में देखा करता था, तब मैं यह सोचता था कि यार, यशराज का हीरो बन जाएं, तो क्या बात होगी. ये तो आप समझ ही सकते हैं कि आज मैं कितना अच्छा फील कर रहा हूं. दूसरा, जब मैंने एक्टर बनने के बारे में सोचा, तो मैंने यह तय नहीं किया कि एक दिन मैं टीवी करूंगा, फिर फिल्म करूंगा और एक दिन मैं इनके साथ काम करूंगा, एक दिन उनके साथ काम करूंगा. मेरे दिल में केवल यह बात थी कि एक्टिंग करने में मुझे मजा आता है. तो इसे मुझे बहुत अच्छे से करना और सीखना है. जब मैं थिएटर में कोई प्ले करता था, तो इतना ही एक्साइटेड होता था, मैं इतनी मेहनत और अच्छे से काम करता था. और जब लोग आकर मेरा प्ले देखते थे और तालियां बजाते थे, तो मुझे बहुत अच्छा लगता था. उतना ही अच्छा लगता है, जब आज मेरी दो फिल्में हिट हो चुकी हैं. तो ये तुलना मैं कर ही नहीं सकता कि इसका हीरो, उसका हीरो, टीवी एक्टर बनने के बाद मुझे कैसा लग रहा है. मुझे छह साल से ऐसा ही लग रहा है.

इस बात पर विश्वास नहीं किया जा सकता है, क्योंकि कुछ अचीव करने के बाद इंसान अलग महसूस करता है.
बहुत से लोगों को यकीन नहीं होता, लेकिन ये आपको लगता है न कि एक दिन मैं ये अचीव करूंगा और जब मैं उसे अचीव कर लूंगा, तो मुझे अच्छा लगेगा. लेकिन अगर आपने ऐसा कोई लक्ष्य बनाया ही नहीं है कि मैं एक दिन ये करूंगा, फिर वो करूंगा. मुझे भी नहीं पता कि मुझे जो फिल्में आज मिल रही हैं, वो क्यों मिल रही हैं. जो फिल्में मैं कर चुका हूं और जो आगे कर रहा हूं. वो सारी ऐसी स्क्रिप्ट्स हैं, जिनका हिस्सा मैं बनना चाहता हूं, इसलिए मैं इतना एक्साइटेड हूं. मैं इसीलिए इतना एक्साइटेड हूं कि मैं अगली फिल्म में दिबाकर बनर्जी के साथ काम कर रहा हूं. वो इतने इंटेलीजेंट हैं, इतने अलग तरीके का सिनेमा बनाते हैं, तो उनके साथ मुझे काम करने का मौका मिला. मैं इसलिए एक्साइटेड नहीं हूं कि मैं एक और फिल्म कर रहा हूं और अब टीवी एवं थिएटर नहीं कर रहा हूं. एक्साइटमेंट के अलग-अलग कारण हैं और सेंस ऑफ अचीवमेंट के अलग कारण हैं. आज मैं पांच फिल्में साइन कर लूं और तब मुझे लगेगा कि मैं अच्छा एक्टर हूं. मुझे अपने बारे में नहीं पता. अगर आज मैं एक ही फिल्म कर रहा हूं या थिएटर में मैं एक ऐसा प्ले करूं, जिसे लगता है कि मैं नहीं कर सकता, तो मुझे अच्छा लगेगा.

दिबाकर बनर्जी की फिल्म ब्योमकेश बख्शी के लिए आपको किस तरह की तैयारी की जरूरत पड़ रही है?
मैं हर फिल्म की रिलीज के बाद दो से ढ़ाई महीने का गैप लेता हूं. ताकि अपने अगले किरदार के बारे में हर चीज पढ़ सकूं, समझ सकूं, उसका बैकग्राउंड पता करूं, ताकि जब मैं शूट करने जाऊं, तो मुझे यह कंफ्यूजन न हो कि यार, मैं यह कैरेक्टर नहीं हूं. ब्योमकेश बख्शी हमारे पहले फिक्शनल डिटेक्टिव हैं, जिनकी बत्तीस-तैंतीस स्टोरीज ऑलरेडी हैं, तो ब्योमकेश का नाम लेते ही आपके दिमाग में उसकी एक इमेज बन जाती है. सबने उसे अपने-अपने तरीके से प्रजेंट किया है, तो जब आप उस किरदार के बारे में सोचते हैं, जब स्क्रिप्ट पढ़ते हैं, तो आप महसूस करते हैं कि डायरेक्टर कुछ अलग ही बताने की कोशिश कर रहा है, तो आपने जितना भी होमवर्क किया, वह आप पहले दिन भूल गए. फिर आप तय करते हैं कि चलिए देखते हैं कि क्या होता है.

शुद्ध देसी रोमांस जब आपने साइन की, तो यह खुशी सबसे पहले किसके संग शेयर की थी?
मैंने अंकिता से शेयर किया था. वो बहुत खुश थीं. अंकिता ने सेलिब्रेट किया था. यशराज की फिल्म मिलना और तब मिलना, जब आपकी पहली फिल्म रिलीज न हुई हो और दूसरा, आपने ऑडिशन के जरिए पाई हो. आप पहले ही एक बैगेज के साथ आते हैं कि आप एक टीवी एक्टर हैं. आपको खुद नहीं पता होता है कि टीवी में एक्टिंग करके आपने क्या गलत कर दिया जिंदगी में. और आपसे बोला जाता है कि पिछले बीस साल में तो ऐसा कोई नहीं कर पाया है, तो तुम क्या करोगे? आप समझते हैं कि वो भी सही बोल रहे हैं.

शुद्ध देसी रोमांस में आपने किसिंग सीन किया है. अंकिता को इस पर आपत्ति नहीं थी?
हम सब प्रोफेशनल एक्टर हैं और यह आपके काम का हिस्सा है. जब आप एक्टिंग कर रहे होते हैं, तो एक्टिंग कर रहे होते हैं. आप झूठ नहीं बोल रहे होते हैं. आप उस समय उस किरदार को फील कर रहे होते हैं. वह कर रहे होते हैं, जो वह करता है. इस फिल्म में दिखाना था कि दो किरदारों के बीच इस लेवल की इंटीमेसी है. हम क्या करते हैं कि हमें पर्दे पर यह सब नहीं देखना है. अगर आप आंकड़े उठाकर देखेंगे, तो पिछले बीस साल में सबसे ज्यादा जनसंख्या हमारे देश की बढ़ी है. सबसे ज्यादा बच्चे हमारे हुए हैं. लेकिन हम बात नहीं करेंगे भाई और ना ही टीवी पर दिखाएंगे. अगर आप एक रियलिस्टिक फिल्म में काम करते हैं, तो यह दिखाना पड़ेगा.

अंकिता आपको लेकर पजेसिव रहती हैं. क्या आप भी उन्हें लेकर पजेसिव हैं?
देखिए हम लोग चाहे कुछ भी बोल लें, लेकिन साइकॉलोजिकली हम सब इनसिक्योर्ड हैं. हम लोगों को एक चीज चाहिए होती है- सिक्योरिटी. वह हमें कभी लगता है कि जॉब से आ सकती है, तो हम हर वह काम करते हैं, जो वह जॉब बचाने में मदद करे. कुछ लोगों को लगता है कि किसी रिश्ते से आ सकती है, तो हम उसको पकडक़र रखते हैं. लेकिन साइकॉलोजिकल सिक्योरिटी मिलती नहीं है. यह ह्यïूमन नेचर है. कभी मेरे काम के बीच में अंकिता का पजेसिव नेचर नहीं आता. दूसरी बात कि अगर वह मेरे लिए पजेसिव न हों, तो मेरे लिए चिंता की बात होगी कि अरे यार, ये कैसी लडक़ी है कि मेरे लिए पजेसिव नहीं है. पजेसिव तो होना ही चाहिए. अगर मुझे मेरा काम पसंद है, तो मैं इसे लेकर पजेसिव हूं. अगर यह हाथ से चला गया, तो मेरा क्या होगा. अंकिता के साथ मैं इसलिए हूं या इसलिए जिंदगी बीतना चाहता हूं, क्योंकि वो मुझे अच्छी तरह से जानती और समझती हैं. वह मुझे साइकॉलोजिकली सिक्योर लगती हैं. इसलिए मैं पजेसिव हूं.

आपके हिसाब से परिनीती चोपड़ा और वाणी कपूर में से कौन बेटर एक्टर है?
दोनों में तुलना नहीं होनी चाहिए. दो इंसान, जिनका बैकग्राउंड फिल्म का नहीं है, वह यशराज की फिल्म कर रही हैं, मनीष शर्मा डायरेक्ट कर रहे हैं, तो उनमें कोई तो बात होगी. परिनीती बहुत कॉन्फिडेंट और स्पॉनटेनियस हैं. जब आप उनके साथ एक्ट कर रहे होते हैं, तो आपको इतना पता होता है कि अगर आप बीच में इंप्रॉवाइज भी करेंगे, तो वह उसी पर रिएक्ट करेंगी. वह उस लेवल तक तैयार रहती हैं. परिनीती के साथ एक्शन-रिएक्शन पर खेलते हैं. वाणी की बात करें, तो उनकी बिल्कुल ही फॉर्मल ट्रेनिंग नहीं है. थिएटर नहीं किया, टीवी नहीं किया है. जब मैं पहली बार टीवी में काम करने गया था, तो मुझसे लाइन नहीं बोली जा रही थी. कैमरा सामने रखा था, मुझे समझ में नहीं आ रहा था कि मैं क्या करूं. मुझे लगा कि वाणी के साथ भी ऐसी प्रॉब्लम होगी, लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ. उन्हें सारी लाइनें याद थीं. वह घबराई नहीं. ये चीजें मुझमें नहीं हैं. मैंने बहुत मेहनत की, तब जाकर आज इस तरह की स्पॉनटेनिटी लाने की कोशिश कर पाता हूं.

आदित्य चोपड़ा के साथ पहली मीटिंग याद है?
बिल्कुल याद है. उसे कौन भूल सकता है. जब मैं उनसे मिलने गया, तो शुरू में कुछ समय तक मुझे कुछ सुनाई नहीं दे रहा था. मैं उन्हें सिर्फ देख रहा था. ऐसे पल में, आप खुद को यह समझा रहे होते हैं कि यह सब सच में हो रहा है. फिर धीरे-धीरे आवाज सुनाई पडऩे लगती है. उन्होंने शुद्ध देसी रोमांस के बारे में कहा. उन्होंने मेरा काम देखा है पहले और उनको लगता है कि मैं एक अच्छा एक्टर हूं. लेकिन उन्होंने कहा कि अंतिम फैसला राइटर जयदीप वर्मा और डायरेक्टर मनीष शर्मा लेंगे. आपको ऑडिशन देना पड़ेगा. मेरे लिए इतना ही बहुत था.

आपको आदित्य चोपड़ा कैसे इंसान लगे? उनके व्यक्तित्व को आप कैसे परिभाषित करेंगे?
वह बहुत अच्छे फिल्ममेकर हैं. उन्हें पता है कि वह क्या कर रहे हैं. उनके दिमाग में क्लैरिटी है कि उन्हें क्या काम चाहिए. वह समझते हैं कि कौन कितना काबिल है और क्या कर सकता है. और अगर कोई अपने आपको काबिल समझता है और उसकी पोटेंशियल ज्यादा है, तो उसको रियलाइज करवाना कि तुम्हारी पोटेंशियल इसलिए ज्यादा है और ये करो, तो और भी ज्यादा हो जाएगा. इतना सपोर्टिव हैं. आप दूर की देख सकते हैं. आप वो चीजें सोच सकते हैं, जिसकी आम तौर पर लोग कल्पना भी नहीं कर पाते उस समय में.

क्या यह कह सकते हैं कि टीवी में आपकी मार्गदर्शक एकता कपूर थीं और अब फिल्म में आदित्य चोपड़ा हैं?
देखिए, हर बात घूम-फिर कर यहां आ जाती है कि आप कैमरे के सामने क्या करते हैं. अगर मैंने कैमरे के सामने अच्छी एक्टिंग करना बंद कर दी, तो फिर कोई भी आपको काम नहीं देगा. चाहे वह आपका मेंटर हो या कोई भी हो. मैं बहुत लकी हूं कि मैं इनके साथ काम कर रहा हूं. लेकिन वहीं, कल इस चीज को मैं हल्के से लेने लगूंगा कि चलो, ये लोग मुझे बैक कर रहे हैं, तो मैं बैठकर रिलैक्स करने लगूं, तो ऐसे काम नहीं चल सकता.

क्या आज आदित्य चोपड़ा के साथ आपके ऐसे संबंध हैं कि आप फोन उठाकर उनसे राय ले सकते हैं?
जी हां, बिल्कुल. उन्होंने खुद कहा है कि यशराज की फिल्म हो या बाहर की फिल्म, सारा डिसीजन तुम्हारा होगा. अगर तुम मुझसे पूछना चाहते हो कि सर, क्या करना चाहिए, तो वह तुम मुझसे कभी भी पूछ सकते हो. लेकिन मैं तुम्हें कभी नहीं कहूंगा कि ऐसा करो या ऐसा मत करो. मैं उनसे राय लेता हूं.

फराह खान की फिल्म हैप्पी न्यू ईयर में अंकिता काम करने वाली थीं, लेकिन अब वो उसका हिस्सा नहीं हैं. क्या वजह रही?
बातें चल रही थीं. बहुत सी चीजें थीं, जो वर्कआउट नहीं हो सकीं. काय पो चे से लेकर अब तक मेरे साथ पच्चीस फिल्मों की बातें चलीं, लेकिन चीजें वर्कआउट हुई नहीं. तो बातें होती रहती हैं.